May 26, 2013

एक बस खचाखच भर चुकी थी।

एक बस खचाखच भर
चुकी थी।
एक बुढिया बस रुकवा कर चढ गई। कंडक्टर के
मना करने पर उस ने कहा मुझे ज़रुरी जाना है।
किसी ने बुढिया को सीट नही दी।
... अगले बस स्टैंड से एक युवा सुंदर लडकी बस मे
चढी तो एक दिल फैंक युवक ने अपनी सीट उसे
आँफरकर दी और खुद खडा हो गया।
युवती ने बुढिया को सीट पर बैठा दिया और खुद
खडी रही ।
युवक अहिस्ता से बोला, " मैने तो सीट आप
को दी थी।"
इस पर युवती बोली, "धन्यवाद, लेकिन
किसी भी भी चीज पर बहन से
ज्यादा मां का हक होता है।

3 comments:

  1. आज की ब्लॉग बुलेटिन फ़िर से नक्सली हमला... ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. इसे कहते है करारा जबाब,बेहतरीन प्रस्तुति.

    ReplyDelete